Maru Pradesh | सदन के विशेष सत्र की चर्चा के बीच मरू प्रदेश अगल राज्य का मुद्दा फिर गरमाया

By Vijay Singh Chawandia

Updated on:

Maru Pradesh | राजस्थान में विधानसभा चुनाव होने में अभी थोड़ा समय शेष है, और इस वक्त एक बार फिर से राजस्थान में मरू प्रदेश नाम से अगल राज्य बनाने की मांग का मुद्दा फिर गरमाया हुवा है । तो क्या राजस्थान के दो भाग हो जायेंगे? Maru Pradesh की मांग तो आजादी के समय से चल रही है। किंतु अबकी बार इस मुहिम ने बहुत जोर पकड़ा हुआ है ।

WhatsApp Group Join Us
Telegram Group Join Now

आपको बता दे राजस्थान में कुछ दिनों पूर्व 19 नए जिलों का भी गठन किया गया था । सभी को लग रहा है की चुनाव से पहले भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का यह कोई मास्टर स्ट्रोक है। ( Maru Pradesh in Rajasthan )

मरू प्रदेश बनाने की मांग | Maru Pradesh Demand

राजस्थान मरू प्रदेश राज्य बनाने की मांग को तब जब ज्यादा हवा मिली जब प्रधानमंत्री जी ने सदन के विशेष सत्र की घोषणा की थी, क्योंकि राजस्थान में चुनाव आने वाले है, और तत्कालीन सरकार के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत ने राज्य में 19 नए जीने बनाकर अपना तुरुप का इक्का पहले ही फेक दिया था । लोगों का अनुमान है की इस बार सदन के विशेष सत्र में मोदी जी देश को तीन नए राज्य मुंबई, अयोध्या और मरू प्रदेश देने का बिल सदन में ला सकते है । किंतु आपको बता दे अभी तक सरकार की तरह से कोई आधिकारिक घोषणा नही हुई है, क्या Maru Pradesh New State बनेगा या नही यह तो आने वाला समय ही बता पाएगा ।

Maru Pradesh Map | मरू प्रदेश का नक्शा और क्षेत्रफल

Maru Pradesh Map | मरू प्रदेश नक्शा
मरू प्रदेश प्रस्तावित मानचित्र

Maru Pradesh की मांग अगर ज्यादा जोर पकड़ती है, और नया राज्य मरुप्रदेश राजस्थान से अलग होकर बनता है, तो संभावना है की तकरीबन 20 जिले नए राज्य के साथ गठन हो सकते है । जिसमे :- सिरोही, सांचौर, जालौर, पाली, बालोतरा, बाड़मेर, जोधपुर ( पूर्व एवम् पश्चिम ), नागौर, डीडवाना-कुचामन, सीकर, नीम का थाना, झुंझुनूं, चूरू, हनुमानगढ़, श्री गंगानगर, अनूपगढ़, बीकानेर और जैसलमेर होंगे । संभावित मरू प्रदेश का क्षेत्रफल 2,13,883 वर्ग किलोमीटर तक हो सकता है । Maru Pradesh News

क्यों उठ रही मरू प्रदेश राज्य बनाने की मांग?

पश्चिमी राजस्थान के लोगों का मानना है की वृहत राजस्थान के गठन के बाद से ही उनका विकास कम हुआ है, जितनी भी सरकारे आई है उन सभी ने जयपुर, अजमेर और उदयपुर जैसे जिलों पर पर ही ज्यादा ध्यान दिया है । जिस कारण पश्चिमी राजस्थान विकास में काफी पिछड़ गया है । मरू प्रदेश निर्माण मोर्चा के अनुसार अगर नया राज्य बनता है तो उनका विकास अधिक होगा, और नए अवसर प्राप्त होंगे । नया राज्य बनाने की मांग आजादी के समय से ही थी, जब जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर और बीकानेर रियासत को मिलाकर एक अगल राज्य बनाना चाहते थे, किंतु उस समय वृहत राजस्थान पर अधिक जोर दिया गया था ।

WhatsApp Group Join Us
Telegram Group Join Now

Vijay Singh Chawandia

I am a full time blogger, content writer and social media influencer who likes to know about internet related information and history.